SEO (Search Engine Optimization) क्या है ? Explained Simply

0

SEO yani “Search Engine Optimization” ek esha process ka jiss ka use karke hum apni website ko search engine me la sakta hai. Search engine क्या होता है, Search engine like as , google, yahoo, bing, baidu, all the web etc.

जैसे मान लीजिये हम Google में जाकर कुछ भी keyword type कर search करते हैं तो उस keyword से related जितने भी result होते हैं

वो आपको Google दिखा देता है. ये result जो हमे नज़र आते हैं वो सभी अलग अलग blog or website से आते हैं. जो result हमे सबसे ऊपर दिखाई देता है वो Google में No.1 rank पर है hume apni website google me No.1 rank par lane ke liye seo ki jarurat hoti hai. SEO एक technique है, जिससे हम ये सब कर सकते हैं.

SEO Basically two technique hoti hai

How Search Engine Works?

Related Posts
1 of 14

Crawling – एक website पे जितने भी pages हैं और जब google उन्हें fetch karta hai. To ushe “crawling” कहा जाता है. ये काम एक software करता है, jise crawler या spider कहते हैं Googlebot, in case of Google”

Indexing – jab google hamare sabi webpages ko index karta hai. और उसे database के रूप में store करने की Process को “Indexing” kehete hai. Indexing का main work होता है, ऐसे words and expressions use करना जिससे page best way में describe kiya ja sake.

Processing – जब एक search engine ke pass request आती है, और search engine उसे अपने database में खोजते है, इस process को “Processing” कहते हैं.

Relevancy Calculate – हर एक page में एक string होती है जो की Calculate करती है uss page ko कितनी बार search किया गया है, और उसकी relevancy search engines को display karta hai.
Results display – ये Search engine activities ka last step hai. isme search किये गए keywords का best result दिखाया जाता है. Basically, ये results को browser में display करने की process hota hai.

Search engines jase ki Google or Yahoo! अपने relevancy algorithm ko every month में बहुत बार change करते हैं. जब आप अपनी rankings में change देखते हैं, तो ये algorithmic shift change hone ke karan hi hota hai.

Normally सभी search engines का basic principal same ही होता है,but थोड़ा सा फर्क सिर्फ इनकी relevancy algorithms में होता है जिससे results में बहुत बड़ा change होता है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.